Thursday, February 18, 2010

सौहार्द का प्रतीक बना कुम्भ नगर हरिद्वार।



Posted by Picasaसाधु संतों के साथ दलित मजदुरों ने किया गंगा स्नान,स्नान को जाते संतो संग दलित मजदूर
महाकुम्भ मेले के दौरान धर्म संस्कृति लोगो की आस्था के दर्शन तो होते ही है पर कुम्भ नगर, पहली बार आस्था के साथ समानता भाईचारे व सौहार्द का प्रतीक भी बन गया है। साधु-सन्तो ने दलित मजदुरों के साथ गंगा स्नान कर दिखा दिया कि उनके मन में समाज के प्रत्येक वर्ग के लिए समान भावनायें है।



समान रूप से स्नान करते साधु -संत व दलित मजदूर
मां गंगा के लिए सब समान है उसकी गोद में सबकों सकून है........... हर-हर गंगे

2 comments:

मनोज कुमार said...

आपकी इस रचना में मानव / प्रकृति के सूक्ष्म किंतु व्यक्त सौंदर्य में आध्यात्मिक छाप है।

Sunita Sharma said...

मनोज जी कमेंट के लिए आपका आभार है ब्लाग पर आपकी पोस्ट अभी बाकी हैं