Friday, September 25, 2009

गंगा नदी ही नही एक अद्भभुत संस्कृति भी



गंगा नदी ही नही अद्वभुत संस्कृति - भाग--2........................गंगा की वैभवता,पवित्रता एंव विशालता ने प्राचीन समय से ही सभी को प्रभावित किया है।गंगा अवतरण की मिथक का वर्णन पुराणों में ही नही वरन साहित्य कला संस्कृति एंव मूर्ति कला में भी कलाकारों ने र्दशाया । कालिदास ने गंगा को मोतियों की माला की संज्ञा दी है, जिसे पृथ्वी ने अपने गले में सजाया हुआ है। 17वी शताब्दी में राजा तिरूमल नायकर के दरबार में एक संस्कृत कवि नीलकंठ दीक्षित ने गंगावतरण नाम का महाकाव्य रचा ।वाल्मीकी ने रामायण में गंगावतरण की घटना का आलौकिक वर्णन किया है। अपने ग्रन्थ गंगा लहरों जगन्नाथ पंडित ने गंगा को समस्त नदियों में श्रेष्ठ कहा जिसे शिव की जटाआे में वास करने का सौभाग्य मिला।उन्होने गंगा के स्वर्ग से पृथ्वी पर आने को उसका महान त्याग बताया ,6वी शताब्दी में किरार्जुनीय में भारवी ने उत्तररामचरितमें भवभूति ने गंगा के असीम वैभव का वर्णन किया।तमिल साहित्य में भी गंगा की पवित्रता एंव विश्वास  के उदाहरण मिलते है।
चित्रकारों एंव मूर्तिकारों ने भी गंगावतरण की आलौकिकता का चित्रण किया । आन्ध्र प्रदेश के नगर नेपाजी मंदिर में भित्ति चित्र में भगवान शिव की जटाअो में गंगा के वास करने के कारण  पार्वती को प्रसन्न करने का चित्र मिलता है।मूर्तियों में गंगा के विभिन्न रूपों को उकेरा गया है। उत्तर प्रदेश के अहिछत्र में गंगा की शिव के पास दक्षिणामूर्ति के धनी दक्षिणामुर्ति में तथा दूसरी शताब्दी के कुषाण युग की मूर्तिया एंव मानवीय स्वरूप में गंगा पशिचमी बंगाल के मुर्षिदाबाद में मूर्ति प्राप्त होती हैअपनी उच्चकोटि की मूर्ति कला के धनी दक्षिण भारतीय मूर्ति कारों ने गंगावतरण का कलात्मक वर्णन महाबलिपुरम के अज्ञात मूर्ति कारों ने किया हैनरिक जिमकर ने आइ आफ इंडियन एशिया में लिखा है कि" एक बहुत बडी चट्टान पर बने एक चित्र में गंगावतरण की कहानी है। सातवी शताब्दी में गंगावतरण का निरूपण मामल्लपुरम में शिलाआे में तराशे हुए उच्चित्रों में से एक भव्य कृति में हुआ है यही नही भारतीय संगीत में विभन्न रागों के माध्यम से भी गंगावतरण की चर्चा संगीत में हुई है।

इस पवित्र नदी के किनारे जो संस्कृति पल्लवित हुई उसके विकास की गाथा तो बहुत विस्तृत है । वैदिक काल में केवल एक ही बार गंगा का उल्लेख आया है।इस समय गंगा एक भव्य नदी थी जिसमें नावें चलती थी आैर गंगा के मुहाने बसा ताम्रलिप्ती नगर पूरा पत्तन नगर बन चुका था ,इण्डोनेशिया,चीन एंव श्रीलंका से आने वाले यात्री ताम्रलिप्ती बंदरगाह पर ही आते थे ।वैदिक काल के बाद की साहित्यिक कृतियों में गंगा तटों पर विकसित हुई संस्कृति का वर्णन मिलता है।जिसमें गंगा के  आस-पास के इलाकों का आर्थिक ,व्यापारिक,राजनैतिक एंव सामाजिक स्थिति का पता चलता है।इसके अलावा तत्कालीन वनस्पतियों ,प्राकृतिक संसाधनों वन्य प्राणियों के बारे में जानकारी मिलती है। बाण के हर्षचरित में वर्णन है कि गंगा तट पर बसें मथुरा व काशी में कपडों की मंडियां  विकसित हो चुकी थी ।गंगा के डेल्टा के लोग ताम्रलिप्ती पतन से आयात-नियात का काय करते थे आैर गुप्त काल में यहां के लोगो का जीवन स्तर बहुत उपर था। भारत के सुप्रसिद्व विद्वान वैज्ञानिक.डा0एम.एस.स्वामीनाथन के शब्दों में "वेदों से आधुनिक युग तक मनीषियों ने अनेक रूपों में गंगा पर विशद प्रकाश डाला है उस वृहद साहित्य के बीच  पेठने की शक्ति कुछ ही लोगो में है उस साम्रगी का आस्वाद मात्र पढकर ही नही किया जा सकता ,इसके लिए संवेदनात्मक रूप से उसके जुडाव को जानना भी आवश्यक है " .............आगे जारी है

7 comments:

विनोद कुमार पांडेय said...

गंगा एक नदी ही नही बल्कि एक श्रद्धा हैं एक देवी के रूप में पूजी जाती है..आज थोड़ी बहुत आहत ज़रूर हुई हैं फिर भी आस्था पर कोई असर नही हुआ है..बहुत सुंदर प्रस्तुति आपकी बधाई..

हर्षवर्धन said...

आप तो ऋषिकेश से हैं। त्रिवेणी घाट पर शाम को गंगा किनारे बैठना अदभुत अहसास है। करीब डेढ़ महीने वहां अमर उजाला का ब्यूरो चीफ रहने का मौका मिला है। बहुत प्यारी जगह है वजह गंगा ही हैं

Kishore Choudhary said...

प्रतीक्षा बनी रही, इस सुंदर श्रृंखला के लिए आप बधाई की पात्र हैं.

Sunita Sharma said...

गंगा मेरे लिए मेरी मां है,जिसने जन्म दिया वो आज सिर्फ यादों में शेष है पर यह जीवनदायिनी गंगा मेरे जीवन के हर क्षण में शामिल है..........

डॉ टी एस दराल said...

सुनीता जी, इसमें कोई शक नहीं की गंगा का हम हिदुओं के जीवन में कितना महत्त्व है. और हमेशा रहेगा भी. लेकिन क्या गंगा खुद हमेशा रह पाएगी. पता चला है की जिस स्पीड से ग्लेशियर्स पिघल रहे है, उससे गंगा अगले ५० सालों में पूरी लुप्त हो जायेगी. अभी भी गंगा का जो हाल देखने को मिलता है. वो वैसा ही है जैसा दिल्ली में यमुना का हो रहा है. इस सच्चाई से मुहँ नहीं मोडा जा सकता. अभी कुछ नहीं किया तो --?
आपने सच कहा , सिक्के के दो पहलु होते हैं.

संजय भास्कर said...

सुनीता जी, इसमें कोई शक नहीं की गंगा का हम हिदुओं के जीवन में कितना महत्त्व है. और हमेशा रहेगा भी.

Ummed Singh Baid "Saadhak " said...

बेशक गंगा अद्भुत है, परम्परागत माता.
बस हिन्दू से क्यों जुङा, एक नदी का नाता.
एक नदी का नाता, मानव मात्र का जीवन.
सह-अस्तित्व में गुँथा हुआ है सबका जीवन.
साधक युगानुरूप बने, ना ले कोई पंगा.
परम्परा में नया मोङ दे अद्भुत गंगा.

सुनीता समझो सत्य प्रकृति बस वर्तमान है.
जीवन-धारा सतत, अखंडित वर्तमान है.
कालखण्ड में बट कर मानव ऐसा भटका.
भूला जीवन, देह-भावमें रह गया अटका.
कह साधक कविराय, विज्ञजन निजको समझो.
जीवन केवल वर्तमान है, सुनीता समझो.