Saturday, June 1, 2013

सपने में कहा प्रतिमा स्थापित करने को.......हनुमान मंदिर....(.भाग एक ) ऋषिकेश l

गंगा के किनारे मायाकुंड में हनुमान का सिद्ध मंदिर स्थित है l ऋषिकेश के मंदिरो में यह उल्लेखनीय है कि पुराणिक महत्व की इस तीर्थ नगरी में कई मंदिर, प्राचीन ऐतिहासिक एवं पुरानो में वर्णित है l इनमे से कुछ मंदिर ऐसे है जिनका निर्माण मानवीय प्रेरणा से तो कुछ का चमत्कारों के फ़लस्वरूप हुआ l मनोकामना सिद्ध हनुमान मन्दिर लोगो की श्रधा व विश्वास का प्रतिफ़ल है तो दूसरी तरफ रामभक्ति का l  हनुमान की विशाल प्रतिमा को  देखकर श्रधालुओ के मन में स्वंय भक्ति भाव उत्पन होता है l मंदिर की स्थापना में स्वामी रामदास उड़िया बाबा ने के थी उड़ीसा  से आये उड़िया बाबा एक सवतंत्रता सेनानी  थे l उनकी कर्मस्थली उड़ीसा  थी , जहा उन्होंनें भारत के स्वस्तंत्रता संग्राम में अपना योगदान दिया l स्वामी रामदास का सम्बन्ध कांग्रेस दल से था l 
कालांतर में स्वतंत्रता आन्दोलन में महत्वपूर्ण कार्यो को उन्होने किया l जिससे अन्य स्वतंत्रता सेनानियों की भांति उन्हें ब्रिटिश सरकार के कोप क भाजन बनना पड़ा l इसलिए वह कई बार जेल गये l अन्तत: जब अंग्रेज अधिकारियो का जुल्म बढने लगा तो वह जीवन रक्षा के लिए ऋषिकेश चले आये और यहाँ पर संतो का जीवन बिताने लगे l उनके राजनतिक जीवन का अंत यही पर नहीं हुआ वरन ऋषीकेश पुस्तिका में वर्णित है की १९२९-३० में नमक सत्याग्रह में देहरादून के चारसो व्यक्ति जेल गए थे उनमे ७०-७५  साधु सन्याशी थे l उन साधु संयाशियो में एक नाम उड़िसा  के उड़िया बाबा  रामदास का  भी शामिल था l उड़िया बाबा का जवाहरलाल लाल नेहरु से भी घनिष्ट सम्बन्ध था तथा उड़ीसा के मुख्यमंत्री   हरीकृष्ण मेहताब उनके प्रमुख शिष्यो में से एक थे l 
मंदिर स्थापना .....................जारी है अगले भाग में l  



                                                                                      

2 comments:

रचना दीक्षित said...

सुंदर जानकारी.

Sunita Sharma Khatri said...

धन्यवाद, रचना जी ....